मैं कवि नहीं हूँ!

मैं कवि नहीं हूँ! निराला जैसी कोई बात मुझमे कहाँ!

119 Posts

27419 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1669 postid : 647

गुनाहों का अफसाना!

Posted On: 3 Aug, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आईने में एक शख्स  अनजाना सा लगा,
चेहरा उसका कुछ जाना-पहचाना सा लगा,
इश्क-ए-जूनून कि तश्वीर थी शायद
मोहब्बत और गुनाहों का अफसाना सा लगा

जाने क्यूँ, ना जाने क्यूँ तुम्हें अब भी याद करते हैं,
मिल जाओ कहीं किसी मोड़ पर, फरियाद करते हैं,
कुछ दर्द मुझे हुआ, कुछ तेरा दिल भी दुख होगा,
बेवफाओं कि भीड़ में एक आशिक दीवाना सा लगा.

छलक आये आंसू जो तुझे भूलने कि बात की,
कदम लडखडाए जो तुझसे दूर जाने कि बात की,
ना हम पास आये, ना तुम्हें दूर जाने कि सजा दी,
ये तकरार-ए-इश्क एक बहाना सा लगा.

खनक तेरे पाजेब कि मेरे इश्क का खिताब है,
ए मेरे हुस्न-ए-अदा, तू लाजवाब है
ना चाह मुझे, तेरी हसरत में जी लूँगा,
कहानी-ए-इश्क, आंसुओं का फ़साना सा लगा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

15 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Misty के द्वारा
July 12, 2016

ni08;#e23c&It¡¦s actually a nice and helpful piece of info. I¡¦m satisfied that you shared this helpful information with us. Please keep us informed like this. Thank you for sharing….

surendra shukla Bhramar5 के द्वारा
August 17, 2011

प्रिय निखिल भाई क्या बात है इन दिनों कुछ बदले बदले रंग …मेंहदी रंग लाने लगी ….आशिकी का दौर … सुन्दर रचना … छलक आये आंसू जो तुझे भूलने कि बात की, कदम लडखडाए जो तुझसे दूर जाने कि बात की, भ्रमर ५

atharvavedamanoj के द्वारा
August 4, 2011

अत्यंत सुन्दर ………बधाई हो

    Nikhil के द्वारा
    August 4, 2011

    शुक्रिया मनोज भाई!

    Carrie के द्वारा
    July 12, 2016

    Really interesting post. I would be interested to know the difference in IQ between psychopathic criminals and non-psycopathic criminals and how that influences their crimes. I think that psychopaths are fascinating, but I think even more interesting is between good and evil where it is difficult to tell. A lot of our &#s2e0;hero28”, Batman is a good example, aren’t completely good. They share some traits with the villains they fight, which makes them more compelling. Thanks for the post.

    Gracelyn के द्वारा
    July 12, 2016

    Trung Ki2/n6112/e012Chào bạn!Đúng đó!Bạn có nhận xét giống mình.“Sá»° VIỆC XẢY RA KHÔNG QUAN TRỌNG BẰNG CÁCH NHÃŒN NHẬN CỦA TA!”

संदीप कौशिक के द्वारा
August 3, 2011

निखिल भाई !! क्या बात ! क्या बात !! क्या बात !!! मज़ा आ गया….! बहुत-बहुत शुभकामनायें भविष्य के सार्थक लेखन के लिए !! :) http://sandeepkaushik.jagranjunction.com/

    Nikhil के द्वारा
    August 4, 2011

    संदीप भाई, आपकी प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया.

    Peerless के द्वारा
    July 12, 2016

    Why is NAFTA such a surprise for everyone? The Clinton administration set everything in mo30tn&#82ti;ohis is old news. But thanks for the post for those that did not know about it. It is quite a comprehensive endeavor.Married to a Mexican

chaatak के द्वारा
August 3, 2011

प्रिय निखिल जी, रचना को पढ़कर सहज ही आपकी संवेदनाओं का आभास हो जाता है बड़ी ही खूबसूरती से आपनी भावो को व्यक्त किया है| हार्दिक बधाई!

    Nikhil के द्वारा
    August 4, 2011

    प्रिय चातक जी, आपको रचना पसंद आई यह मेरे लिए सम्मान की बात है. आपकी प्रतिक्रिया के लिए आभार.

    Tangela के द्वारा
    July 12, 2016

    I read your post and wisehd I was good enough to write it

alkargupta1 के द्वारा
August 3, 2011

बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल से अहसास होता है कि एक सफल शायर भी हैं निखिल जी ! शुभकामनाएं !

    Nikhil के द्वारा
    August 4, 2011

    आदरणीय अलका जी, ये आपका बड़प्पन है, न मैं कवी हूँ और न शायर, बस भावनाओं का एक सैलाब हूँ जो कभी कभी उमड़ आता है. आपके प्रोत्साहन के लिए शुक्रिया.

    Jayan के द्वारा
    July 12, 2016

    As Charlie Sheen says, this article is “WINGINN!”


topic of the week



latest from jagran